मेरी दर्दभरी प्यार की कहानी - उसने ऐसा क्यूँ किया [ Hindi Sad Love Story of a Girl ]

Real Love Story in Hindi, सच्चे प्यार की कहानी हिंदी में, प्यार की सच्ची कहानी, HINDI LOVE STORY, सच्चे प्यार की कहानी, real true love story, real pyar ki kahani, अधूरी प्रेम कहानी, Heart Touching Hindi Love Story, वह एक गरीब लड़की थी, sad love kahani in hindi,  hindi love kahani,  dard bhari prem kahani in hindi,  pyar ki kahani facebook,  sad prem kahani,  pyar ki sachi kahani,  mohabbat bhari kahani,  pyar ki kahani 1971..

हेल्लो फ्रेंड्स, मैं आज आपके सामने मेरी दर्द भरी प्यार की कहानी लेकर हाजिर हूँ. यह एक लड़की की सच्ची रियल लव स्टोरी है. आइये उस लड़की की कहानी उसी की जुबानी पढ़ते है...

sad love kahani in hindi
sad love kahani in hindi

मेरी दर्दभरी प्यार की कहानी - उसने ऐसा क्यूँ किया [ Hindi Sad Love Story of a Girl ]

बात उन दिनों की है जब मैं स्कूल में पढ़ती थी. मुझे पढ़ने का बहुत शौक था पर एक दिन एक लड़का मेरी लाइफ मे आ गया. उसने मुझसे कहा कि वो मुझसे बहुत प्यार करता है. उसने मुझे पहली बार आई लव यू बोला. वो मेरे रिप्लाई का इन्तेजार कर रहा था. मैने मना कर दिया. उसे बहुत बुरा लगा.

फिर एक दिन मुझे उसके एक दोस्त की गर्लफ्रेंड ने बताया कि वो मुझसे बहुत प्यार करता है. वो हर दिन बस मेंरे बारे में ही सोचता है. वो मुझे याद करके बहुत रोता है. उसने मुझे यह भी बताया कि उसने मुझे जो लेटर भेजा था, वो उसने अपने खून से लिखा था.

मुझे ये सुनकर बहुत बुरा लगा और मैं बिना किसी परवाह के भागती हुई उसके पास चली गई. मैंने उसे जाते ही 'आई लव यू' बोल दिया. वो यह सुनकर उस दिन बहुत खुश हुआ और उसे खुश देखकर मैं भी बहुत खुशी हुई. इसका कारण ये था कि अब मैं भी उससे बहुत प्यार करने लगी थी.

मैं उससे बहुत कम बात किया करती थी ताकि मैं अपनी पढ़ाई कर सकूँ और वो भी मेरी बात समझने लग था. मुझे बहुत अच्छा लगता था. ऐसे ही करते - करते हमारी बात आगे बढ़ी. हम हर रोज फोन पर बात करने लगे. हालाँकि वो लड़का वैसा नहीं था जैसा मैं चाहती थी परन्तु फिर भी मैं उससे बहुत प्यार करने लगी थी.

मैं उसकी खुशी के लिए कुछ भी कर सकती थी और वो ये बात अच्छी तरह से जानता था. उसने भी मुझे ये यकीन दिलाया कि वो मेरे लिए कुछ भी कर सकता है. मैं उसकी हर ज़रूरत को पूरा करती थी उसके लिए मैने कभी अपने आप की भी परवाह नहीं की. वो भी शायद मुझसे प्यार करता था ऐसे ही 3 साल बीत गए.

उसने एक कंप्यूटर सेन्टर में कंप्यूटर सीखना शुरू कर दिया. वहां पर शायद उसे कोई और लड़की पसंद आ गई. उस दिन से उसने मुझसे मिलना ही छोड़ दिया. वो मेरा फोन भी रिसीव नहीं करता था. अगर करता भी था तो ठीक से बात नही करता था.

मैने उससे इस बारे में बात की और कहा कि मुझे बताओ तुम मेरे साथ ऐसा क्यूँ कर रहे हो, तो उसने मुझे नही बताया और वो मुझसे हर बात पर झूठ बोलने लगा. फिर एक दिन मैने उसे मिलने के लिए बुलाया और उसने मुझसे बड़ी आसानी से कह दिया कि वो किसी और से प्यार करता है.

उसने मेरे बारे में एक बार भी नही सोचा और ये सुनते ही मानो मेरे सिर पे आसमान गिर पड़ा हो. मैं टूट गई. वही बिखर गई और उसे कोई फ़र्क़ ही नही पड़ा. मेरे लिए वो मेरी जिंदगी से बढ़कर बन गया था. मैं वहां से चुप चाप चली आई और फिर मुझे पता चला कि वो मेरे बारे मे सबको ग़लत बताता है.

मैं बहुत रोती हूँ उसे याद करके. मुझे उस की बहुत याद आती है. उसके साथ बिताया हुआ वो एक - एक पल याद आता है. उस दिन से मेरे लिए प्यार शब्द जो मेरी जिंदगी होता था, आज उसी प्यार से मैं बहुत डरती हूँ. क्यूंकि वो मुझे उस वक़्त छोड़ कर गया, जब मुझे उसकी ज़रूरत थी. उस दिन से आज तक मैं कभी प्यार पर विश्वास नही कर पाई और शायद कभी कर भी नही पाऊँगी. चाहे वो मुझे भूल जाए पर मैं आज भी सिर्फ़ और सिर्फ़ उसी से ही प्यार करती हूँ.

अब आप ही बताइए दोस्तों कि मैं क्या करूँ, मुझे क्या करना चाहिए. इस तरह तड़प तड़प के तो मैं एक दिन मर ही जाऊंगी. प्लीज आपके मन में मेरे बारे में जो भी बात आए कमेंट में जरुर लिखना. मैं आपके कमेंट का इन्तेजार करुँगी..

No comments:

Post a Comment