कौए और मैना की हिंदी कहानी जो हमें देती है एक शिक्षा | Good story for students read now

कौए और मैना की शिक्षाप्रद कहानी, बच्चों के लिए अच्छी कहानी, कौए मैना की हिंदी कहानी, कौए और मैना की ये कहानी बहुत बड़ी सीख देती है, कौए और मैना से ले लो यह सीख, कौवा और मैना, कौआ मैना से बोला, बच्चे इसे जरुर पढ़ें, Story for students, ज्ञानवर्धक कहानी, बच्चों की मनपसंद कहानी , कहानी जो सभी को आएगी पसंद , प्रेरणादायक हिंदी कहानियां , हिंदी कहानी संग्रह , कहानी ही कहानी , कहानी , kahaani , हिंदी कहानी बच्चों के लिए , कहानियां इन हिंदी , हिंदी कहानी लेखन , हिंदी कहानियां पंचतंत्र , विश्व के हर कोने से हिंदी कहानियों का सर्वश्रेष्ठ संकलन , Hindi Stories - Kahani , हिंदी कथा-कहानी , कहानियां जो जिंदगी बदल दे , Life Changing Hindi Stories , मनोरंजक कथाएँ , मज़ेदार कहानियाँ , दिलचस्प किस्से , बच्चों की नयी कहानियाँ , हिंदी में कहानी यहाँ पढ़ें.



एक बार की बात है. एक मैना थी. वो शाम के समय अपने घर वापिस लौट रही थी. तभी बदल घिर आए और बरसात होने ही वाली थी. मैना को एक पेड़ दिखाई दिया. मैना ने सोचा कि यदि मैं मेरे घर तक जाउंगी तो बीच में ही बारिश शुरू हो जाएगी.

मैना ने बरसात होने तक उस पेड़ पर रुकने की सोची. जब मैं उस पेड़ पर बैठी तो देखा कि पेड़ पर पहले से ही बहुत सारे कौए बैठे हुए थे, जो आपस में लड़ रहे थे. मैना के पेड़ पर बैठते ही कौए आपस में झगड़ना बंद हो गए और मैना से लड़ने लगे.

मैना ने नम्रता से कहा - बारिश होने वाली है इसलिए मैं कुछ ही समय के लिए यहाँ रुकी हूँ. बारिश रुकते ही मैं चली जाउंगी. मुझे केवल बारिश रुकने तक का आश्रय दे दो.

कौए नही माने और कहा - यह पेड़ सिर्फ हमारा है, या तो यहाँ से चली जाओ नहीं तो हम तुम्हें मार देंगें.

फिर मैना बोली - मेरा और तुम्हारा कुछ नहीं है, यह सब कुछ भगवान का है. भगवान से डरो.

यह सुनकर कौए हसने लगे और बोले ठीक है तुम्हें भगवान पर इतना ज्यादा विश्वास है तो हम आज तुम्हारे भगवान को ही देख लेते है कि वो तुम्हें इस बारिश से कैसे बचाता है. जाओ अभी जाओ.

मैना वहां से चल दी. थोड़ी सी दुरी पर एक आम का पेड़ था. मैना वहां बैठ गई. अचानक जोरदार आंधी के साथ बारिश होने लगी. आम के पेड़ की एक डाल टूट गई जो अंदर से खाली थी. मैना उस मैना डाल की खोह में बैठ गई. तभी बारिश के साथ ओले भी गिरने लगे.

कुछ समय बाद बारिश रुक गई. मैना अपने घर जाने के लिए उड़ी तो उसने देखा कि दुसरे पेड़ के सभी कौए जमीन पर घायल पड़े है.

घायल कौओं मे से एक ने मैना से पूछा - तुम्हें ओलों की मार से किसने बचाया?

मैना बोली - मुझे भगवान ने बचाया है. 

मैना की बात सुनकर कौओं को अपनी भूल का अहसास हुआ और उन्होंने मैना से अपनी गलती की माफ़ी मांगी और कहा कि वो भविष्य में ऐसा किसी के साथ नहीं करेंगे.

शिक्षा:- जो भगवान पर विश्वास रखते है, कष्ट के समय भगवान उसका साथ देते है.

Recommended for you..

loading...