कालसर्प योग का वैवाहिक जीवन पर क्या होता है असर? Kalsarap yog kya hai?

कालसर्प योग का वैवाहिक जीवन पर क्या होता है असर? कालसर्प योग क्या है? यह परेशानी देने वाला क्यों माना जाता है? Kalsarap yog kya hai aur yah Pareshani kyo deta hai? कुंडली में कालसर्प दोष क्यों होता है? क्या काल सर्प दोष नुकसान देता है?

उतार-चढ़ाव अच्छा और बुरा समय सभी की जिंदगी में आता है लेकिन कुछ लोगों के जीवन हमेशा संघर्षो से भरा रहता है। यदि ज्योतिष की सलाह लेते हैं तो अक्सर ऐसे लोगों की कुंडली में कालसर्प दोष होता है।

 

अगर जन्म कुंडली में केतु चौथे और राहु दसवें भाव में हो तो ये दोनों ग्रह मिलकर घातक कालसर्प योग बनाते हैं। इस योग में जन्म लेने वाला व्यक्ति यदि माँ की सेवा करें तो उसे उत्तम घर व सुख की प्राप्ति होती है।

ऐसा कालसर्प योग शुभ कम और अशुभ ज्यादा होता है।जिसकी कुंडली में ये घातक कालसर्प दोष होता है वो जातक हमेशा सुख प्राप्त करने के लिए कोशिश करता रहता है लेकिन उसके पास कितना ही सुख आ जाये तब भी उसका मन नहीं भरता। ऐसे व्यक्ति को पिता से भी दूर रहना पड़ता है। उसका वैवाहिक जीवन सुखमय नहीं रहता है।
-------------------------------

नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें या कॉपी करके ब्राउज़र में पेस्ट करें और हमारा youtube channel सब्सक्राइब करें. आप Web Remind लिखकर youtube में सर्च कर सकते है।

https://www.youtube.com/channel/UCnz5ZEfVjwBdKJtOopowD5A

ऐसे कालसर्प वालों को बिजनेस और कार्यक्षेत्र में अप्रत्याशित समस्याओं का मुकाबला करना पड़ता है कालसर्प एक ऐसा योग है जिससे व्यक्ति को आर्थिक, शारीरिक और मानसिक रूप से परेशान होना पड़ता है। ऐसे व्यक्ति को मुख्य रूप से संतान संबंधी कष्ट होता है।

इस योग के कारण जीवन के किसी ना किसी क्षेत्र में परेशान अवश्य रहना पड़ता है। इसलिए ज्योतिष के अनुसार इस दोष को काले सर्प के सामन भयानक माना जाता है इसलिए इसे कालसर्प योग कहा जाता है।

Post a Comment