काम में पर्याप्त सफलता नहीं मिलती है क्यों? Hame puri mehanat karne par bhi safalta kyo nahi milti hai?

मन एकाग्र हो तो लक्ष्य पर क्या प्रभाव पड़ता है? एकाग्रता बढ़ाने के लिए क्या करें? एकाग्रता में कमी का कारण क्या होता है? एकाग्रता बढ़ाने के लिए सफेद चीजों का दान क्यों करते हैं? ज्योतिष शास्त्र के अनुसार किस को मन का कारक माना गया है? काम में पर्याप्त सफलता नहीं मिलती है क्यों? Hame puri mehanat karne par bhi safalta kyo nahi milti hai? मन को एकाग्र करने के लिए क्या करना चाहिए?

कई लोग ऐसे होते हैं जो हर कार्य को करने के लिए मेहनत तो बहुत करते हैं लेकिन फिर भी उन्हें अपने काम में पर्याप्त सफलता नहीं मिलती है। इसका एक कारण मन एकाग्र ना होना भी है।

 

इसलिए कहते हैं कि अगर मन एकाग्र हो और लक्ष्य को प्राप्त करने की जिद हो तो व्यक्ति असंभव सा लगने वाला कार्य भी आसानी से कर गुजरता है। अगर ज्योतिष के दृष्टीकोण से देखा जाए तो एकाग्रता में कमी का कारण चंद्र होता है।
-------------------------------

नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें या कॉपी करके ब्राउज़र में पेस्ट करें और हमारा youtube channel सब्सक्राइब करें. आप Web Remind लिखकर youtube में सर्च कर सकते है।

https://www.youtube.com/channel/UCnz5ZEfVjwBdKJtOopowD5A


क्योंकि ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चंद्र को मन का कारक माना गया है। चंद्र ही एक मात्र ऐसा ग्रह है जो मन की ही तरह तेजी से गतिशील है।

चंद्र बहुत तेज गति से चलता है। चंद्र मात्र ढाई दिन ही एक राशि में रुकता है। इसके चंचल स्वभाव के कारण ही इसे मन का कारक ग्रह भी कहा जाता है। चंद्र हमारे मन को पूरी तरह प्रभावित करता है।

यदि चंद्र नीच का या अशुभ फल देने वाला हो तो व्यक्ति पागल भी हो सकता है। चंद्र विपक्ष में होने पर व्यक्ति कोई भी निर्णय ठीक से नहीं कर पाता। मन भटकता रहता है।

इसीलिए चंद्र को बलवान बनाने के लिए सफेद चीजों का दान करने को कहा जाता है। जैसे कुंवारी कन्याओं को दूध पिलाना, सफेद मिठाई का दान करना या सफेद कपड़े का दान, बड़ के वृक्ष पर दूध चढ़ाना या चांदी के सिक्के को नदी में प्रवाहित करने से चन्द्र को बल मिलता है।

इसलिए ऐसी मान्यता है कि मन को एकाग्र करने के लिए सफेद चीजों का दान करना चाहिए।

Post a Comment