टोटा नफा और लाभ हाणी आदम देह खातर तारी Tota nafa labh hani sab is jivan me aate hai

दोस्तों, पांच तत्व के इस शरीर का और टोटा, नफा तथा लाभ - हाणी का कवि ने कैसे वर्णन किया है.....

पांच तत्व का शरीर बना नौ गिरह टेक दी भारी
टोटा नफा और लाभ हाणी आदम देह खातर तारी।टेक

कोए दिशा धनवान बणादे कोए करै कंगाली
कोए दिशा धन तै भरदे कोए रखदे खाली
कोए दिशा रजगार चलादे कोए बिठादे ठाली
किसे दिशा म्हं शरीर सुकज्या कोए बणा दे लाली
किसे दिशा निर्धन बन्दा करै जगहां सर यारी।

किसै दिशा म्हं जहमत झगड़ा किसे दिशा म्हं शादी
किसै दिशा म्हं माणस का तोड़ा कोए करै आबादी
किसै दिशा म्हं धन आले नैं मिलै ना खाण नै आधी
किसै दिशा म्हं राजा नल नै गद्दी तलक जिता दी
किसै दिशा म्हं दमयन्ती भी गई पाट पति तैं न्यारी।

किसै दिशा म्हं बन्धे आबरो किसे दिशा म्हं हाणी
किसै दिशा म्हं राज चाल्या जा छूटज्या चीज मिजानी
किसै दिशा म्हं साहूकार भी करते कार बिरानी
किसै दिशा म्हं हरिश्चन्द्र नै भर्या नीच घर पाणी
किसै दिशा म्हं उन बन्दयां की हुई सुरग की त्यारी।

किसै दिशा म्हं प्रेम कुटम्ब का किसै दिशा म्हं छुटज्या
किसै दिशा म्हं धन मुन्जी का जोड़या जाड़या छुटज्या
किसै दिशा म्हं दुश्मन गेल्यां प्यार मुलाहजा छुटज्या
किसै दिशा म्हं मोती चुगता हंस ताल तैं उड़ज्या
किसै दिशा म्हं मिलै मेहरसिंह हाथी की असवारी।

Post a Comment