कमजोरी हमे लड़ना सिखाती है बस लड़ने वाला होना चाहिए Kamjori hamen ladna sikhati hai bas ladne vala chahiye

एक बार एक लङका था। उसकी उमर 20 साल थी. वह शरीर से बहुत कमजोर था. उसकी इस कमजोरी का सब लोग मजाक बनाते थे। इस वजह से कोई उससे दोस्ती करना भी पसंद नही करता था। वह सबसे अलग ही रहता था.
 Read More Posts
 

अकेलेपन के कारण उसे जिन्दगी बोझ लगने लगी थी. एक दिन किसी व्यक्ति ने उसकी इस कमजोरी का इतना ज्यादा मजाक उड़ाया की उसको उस व्यक्ति की बात दिल से लग गई। वह एक पेड़ के नीचे बैठ गया. 

वहां से एक अध्यापक जा रहे थे. उनकी नजर उस लड़के पर पड़ी. चेहरे पर उदासी देखकर अध्यापक ने उस बच्चे से बहुत प्यार से इस उदासी का कारण पूछा. लड़के ने सारी आप बीती मास्टर जी को बताई. मास्टर जी ने उन्हें एक्सरसाइज करने की सलाह दी और उसका आत्मविश्वाश बढ़ाने के लिए वीरों की बातें बताई. 
मास्टर जी की बातें सुनकर लड़के को धर्य प्राप्त हुआ और उसने इस कमजोरी को दूर करने की ठान ली. उसने अपने नजदीकी गाँव की बोक्सिँग क्लास मे जाना शुरु कर दिया। जब कभी उसे किसी से लङाया जाता तो वह बहुत मार खाता था। कई दिनों तक ऐसा ही चला। सब लोग उस लङके से बोलते थे तू बोक्सिँग छोङ दे तेरे बस की नही है। मगर उस लङके ने किसी की नही सुनी और बोक्सिँग सिखता रहा। 

3 साल बाद उसने एक प्रतियोगिता मे भाग लिया और पहला नम्बर प्राप्त किया। जब उसे अपनी जीत के बारे मेँ कुछ कहने के लिए बुलाया तो उसने बस यह कहा कि मेरी जीत मेरी कमजोरी की वजह से हुई है। लोग मुझे मारते थे इस वजह से मैं मजबूत बनता गया और मेरी मार मेरी जीत का कारण बनी। हमारी कमजोरी हमे लङना सिखाती है बस लङने वाला होना चाहिए।  Read More Posts