श्री गुरु नानक देव के अनमोल विचार - Shree Guru Nanak Dev ke anmol vichar

प्रिय दोस्त इस पोस्ट पर आप श्री गुरु नानक देव के अनमोल विचार पढ़ सकते हो और यदि आप इनसे सहमत हो तो आप इन विचारों को अपने जीवन में धारण जरुर करें. इन विचारों को अपने दोस्तों और अन्य लोगों तक पहुँचाने के लिए इस पोस्ट को शेयर करें.

  • उसकी चमक से सबकुछ प्रकाशमान है.
  • कोई उसे तर्क द्वारा नहीं समझ सकता, भले वो युगों तक तर्क करता रहे.
  • तेरी हजारों आँखें हैं और फिर भी एक आंख भी नहीं ; तेरे हज़ारों रूप हैं फिर भी एक रूप भी नहीं.
  • दुनिया में किसी भी व्यक्ति को भ्रम में नहीं रहना चाहिए. बिना गुरु के कोई भी दुसरे किनारे तक नहीं जा सकता है.
  • धन-समृद्धि से युक्त बड़े बड़े राज्यों के राजा-महाराजों की तुलना भी उस चींटी से नहीं की जा सकती है जिसमे में ईश्वर का प्रेम भरा हो.
  • प्रभु के लिए खुशियों के गीत गाओ, प्रभु के नाम की सेवा करो, और उसके सेवकों के सेवक बन जाओ.
  • प्रभु के लिए खुशियों के गीत गाओ, प्रभु के नाम की सेवा करो, और उसके सेवकों के सेवक बन जाओ.
  • बंधुओं ! हम मौत को बुरा नहीं कहते , यदि हम जानते कि वास्तव में मरा कैसे जाता है.
  • भगवान एक है, लेकिन उसके कई रूप हैं. वो सभी का निर्माणकर्ता है और वो खुद मनुष्य का रूप लेता है. ना मैं एक बच्चा हूँ , ना एक नवयुवक, ना ही मैं पौराणिक हूँ, ना ही किसी जाति का हूँ.
  • मेरा जन्म नहीं हुआ है; भला मेरा जन्म या मृत्यु कैसे हो सकती है.

Post a Comment