सच जो हमें कड़वा लगता है Sach jo hame kadwa lagta hai

ये है कड़वी सच्चाई Ye hai kadwi sachchai, This is the bitter truth.

प्रिय दोस्त इस पोस्ट पर जीवन में घटित होने वाले कुछ कडवे सच लिखे है. आप कमेंट के माध्यम से अपने विचार जरुर लिखे.

  • नदी और तालाब मे नहाने मे शर्म आती है, और स्विमिँग पूल मे तैरने को फैशन कहते हो.
  • गरीब को एक रुपया दान नहीँ कर सकते, और वेटर को टीप देने मे गर्व महसूस करते हो.
  • माँ बाप को एक गिलास पानी भी नहीँ दे सकते, और नेताओँ को देखते ही वेटर बन जाते हो.
  • बड़ो के आगे सिर ढकने मे प्रॉबलम है, लेकिन धूल से बचने के लिए 'ममी' बनने को भी तैयार हो.
  • पंगत मे बैठकर खाना दकियानूसी लगता है, और पार्टियो मे खाने के लिए लाइन लगाना अच्छा लगता है.
  • बहन कुछ माँगे तो फिजूल खर्च लगता है, और गर्लफ्रेँड की डिमांड को अपना सौभाग्य समझते हो.
  • गरीब की सब्जियाँ खरीदने मे इंसल्ट होती है, और शॉपिँग मॉल मे अपनी जेब कटवाना गर्व की बात है.
  • बाप के मरने पर सिर मुंडवाने मे हिचकते हो, और 'गजनी' लुक के लिए हर महीने गंजे हो सकते हो.
  • कोई पंडित अगर चोटी रखे तो उसे एंटीना कहते हो, और शाहरुख के 'डॉन' लुक के दीवाने बने फिरते हो.
  • किसानो के द्वारा उगाया अनाज खाने लायक नहीँ लगता, और उसी अनाज को पॉलिश कर के कंपनियाँ बेचे तो क्वालिटी नजर आने लगती है.
सहमत हो या नहीं.............

Post a Comment